बिहारी सतसई की फारसी टीका किसने और किस नाम से लिखी ?

Back to Archive Keyword Select Category All categories Hindi GrammarHindi Sahitya – आदिकाल – भक्तिकाल – रीतिकाल – आधुनिक काल NET/JRF Hindi – इकाई 1 हिंदी भाषा और उसका विकास – इकाई 2 हिंदी साहित्य का इतिहास – इकाई 3 Read More …

प्रेमदर्शन किसकी रचना है?

Back to Archive Keyword Select Category All categories Hindi GrammarHindi Sahitya – आदिकाल – भक्तिकाल – रीतिकाल – आधुनिक काल NET/JRF Hindi – इकाई 1 हिंदी भाषा और उसका विकास – इकाई 2 हिंदी साहित्य का इतिहास – इकाई 3 Read More …

ठाकुर की कविताओं का संग्रह ठाकुर शतक नाम से किसने संपादन किया?

Back to Archive Keyword Select Category All categories Hindi GrammarHindi Sahitya – आदिकाल – भक्तिकाल – रीतिकाल – आधुनिक काल NET/JRF Hindi – इकाई 1 हिंदी भाषा और उसका विकास – इकाई 2 हिंदी साहित्य का इतिहास – इकाई 3 Read More …

शुकदेव मिश्र को कविराज की उपाधि किसने दी थी ?

Back to Archive Keyword Select Category All categories Hindi GrammarHindi Sahitya – आदिकाल – भक्तिकाल – रीतिकाल – आधुनिक काल NET/JRF Hindi – इकाई 1 हिंदी भाषा और उसका विकास – इकाई 2 हिंदी साहित्य का इतिहास – इकाई 3 Read More …

उत्तर मध्य काल को श्रृंगार काल किसने कहा?

Back to Archive Keyword Select Category All categories Hindi GrammarHindi Sahitya – आदिकाल – भक्तिकाल – रीतिकाल – आधुनिक काल NET/JRF Hindi – इकाई 1 हिंदी भाषा और उसका विकास – इकाई 2 हिंदी साहित्य का इतिहास – इकाई 3 Read More …

डॉ नगेंद्र ने रीति काव्य का प्रवर्तक किसे माना है?

Back to Archive Keyword Select Category All categories Hindi GrammarHindi Sahitya – आदिकाल – भक्तिकाल – रीतिकाल – आधुनिक काल NET/JRF Hindi – इकाई 1 हिंदी भाषा और उसका विकास – इकाई 2 हिंदी साहित्य का इतिहास – इकाई 3 Read More …

’बालि को सपूत कपिकुल पुरहूत, रघुवीर जू को दूत भरि रूप विकराल को।’ उपर्युक्त काव्य-पंक्तियाँ किस रचनाकार की हैं ?

Back to Archive Keyword Select Category All categories Hindi GrammarHindi Sahitya – आदिकाल – भक्तिकाल – रीतिकाल – आधुनिक काल NET/JRF Hindi – इकाई 1 हिंदी भाषा और उसका विकास – इकाई 2 हिंदी साहित्य का इतिहास – इकाई 3 Read More …

आचार्य रामचंद्र शुक्ल ने अपनी आलोचना में किस कवि को “प्रेम की पीर का कवि” सिद्ध किया है?

Back to Archive Keyword Select Category All categories Hindi GrammarHindi Sahitya – आदिकाल – भक्तिकाल – रीतिकाल – आधुनिक काल NET/JRF Hindi – इकाई 1 हिंदी भाषा और उसका विकास – इकाई 2 हिंदी साहित्य का इतिहास – इकाई 3 Read More …

“रहीम का हृदय द्रविभूत होने के लिए, कल्पना की उड़ान की अपेक्षा नहीं रखता था ।वह संसार के सच्चे और प्रत्यक्ष व्यवहार मै ही द्रभिभूत होने के लिए पर्याप्त स्वरूप पा जाता है । ” कथन किसका है ?

Back to Archive Keyword Select Category All categories Hindi GrammarHindi Sahitya – आदिकाल – भक्तिकाल – रीतिकाल – आधुनिक काल NET/JRF Hindi – इकाई 1 हिंदी भाषा और उसका विकास – इकाई 2 हिंदी साहित्य का इतिहास – इकाई 3 Read More …

*नृपति नैन कमलंनि वृथा चितवत बासर जाहि* हृदय कमल में हरि लै कमलमुखी कमलाही* पंक्तिकार हैं?

Back to Archive Keyword Select Category All categories Hindi GrammarHindi Sahitya – आदिकाल – भक्तिकाल – रीतिकाल – आधुनिक काल NET/JRF Hindi – इकाई 1 हिंदी भाषा और उसका विकास – इकाई 2 हिंदी साहित्य का इतिहास – इकाई 3 Read More …